आज कल यहाँ सिलीकन वैली या कहें सैन होज़े में गर्मी काफी पड़ रही है। आज शनिवार था व हर अच्छे पत्नीभगत देसी पति की तरह मैं अपनी प्रिया के साथ ग्रेट मॉल में घूम रहा था। खरीदा कुछ नहीं बस यूं ही घूम कर आ गए। वापिस आया तो गर्मी में दिल मांगे मोर की तरज पर मन में बीयर पीने की तीव्र कामना उत्पन्न हूई। इसकी शांति के लिए फ्रिज देव से एक ठंडी बीयर निकाली। पर भाग्य में कुछ और ही लिखा था। वह कुछ ज्यादा ही ठंडी निकली। अब जब बीयर चाहिए तो बीयर चाहिए। कोंच कोंच कर निकालनी पढ़ी। जर्मनी में जन्मी इस बीयर  के भाग्य में अमरीका में देसी के हाथों गले में चम्मच डलवाना लिखा था अब क्या कहें आप भी देखें कैसे जमी पड़ी है