कभी आप ने स्वर्ग की कल्पना की है सच क्या है यह तो पता नहीं कोई जानता है कि नहीं पर यदि कल्पना की दुनिया कि कहानियों व फिल्मों को देखें तो आप पाएंगे कि इस कल्पना में खूबसूरत वादियाँ, हर ओर हरियाली, सुंदर से पहाड़, उन की चोटियों पर दूर से दिखती बर्फ व कल कल बहते झरने जरुर होंगे। कुछ यही छटा होती है मई-जून में योसेमिती वादी की। योसेमिती वादी कैलिफोर्निया के मध्य पूर्व में करीब १,१७० वर्गमीलों में फैली है। अजीब बात है कि करोड़ों साल पहले यह वादी समुंद्र के नीचे थी जो फिर मैगमा में परिवर्तित हो कर सतह पर आकर जमीन के अंदर एक बहुत बड़े ग्रेनाईट के टुकड़े में बदल गई। फिर लाखों साल पहले यहाँ छोटी छोटी नरम मिट्टी की पहाड़ियाँ होती थी व मरसेड नदी भी बहती थी। इस मरसेड नदी ने भी उस समय वादी को कई तरह से तराशा। उसके बाद हिमयुग आगया व ग्लेशियर इस जगह पर जम गए जिन्होने बाद में पिंघल कर बहते हुए आज की योसिमिती वादी को जन्म दिया।

आज यह योसेमिती कैलिफोर्निया आने वालों के लिए एक प्रमुख आकर्षण है। यदि आप प्रकृति प्रेमी हैं फिर तो यहाँ आए बिना रहा ही नहीं जा सकता और यदि केवल प्रेमी भी हैं तो प्रेयसी से झरनों के किनारे प्रीत भरी बातें करने से प्यारी जगह क्या होगी। आईए पढ़े यहाँ पर लोग सबसे ज्यादा किसे देखने आते हैं व क्या प्रसिद्ध है।

हॉफ डोम, नेवाडा फॉल्स, वरनाल फॉल्स

हॉफ डोम यानि अर्ध गुंबद ग्रेनाईट की बहुत बड़ी व ऊंची चट्टान है। इसकी उत्पत्ति की कहानी योसेमिती को बनाने वाले ग्लेशियर से ही जुड़ी है। जब यह ग्लेशियर बाबू रैम्बो की तरह चल रहे थे तो जो भी रास्ते में आया उसे काटते चले गए। इसी कटाई से बना यह हॉफ डोम। दायीं दी गई छवि में देखिए कैसी काटा है ग्लेशियर ने जैसे विश्वकर्मा जी के प्रमुख शिल्पी ही काटने आए हों। हॉफ डोम एक और वजह से भी प्रसिद्ध है। सारी दुनिया के पर्वतारोहियों की सूची में हॉफ डोम भी प्रमुख स्थान रखता है। यदि आप ने इस की चढ़ाई करली तो समझिए सही में काफी ऊचाईयों पर पहुँच गए।

अल कपतान कहते हैं अंग्रेजों ने ताजमहल मथुरा के एक बनिये को बेच दिया था बनिया इतनी मात्रा में संगमरमर काटने की सोच न सका व ताजमहल अपनी जगह ही है। कुछ वैसी ही मात्रा में ग्रेनाईट का पत्थर है अल कपतान में। यह दुनिया कि सबसे बड़ी अविभाजित ग्रेनाइट चट्टान है। अल-कपतानइसे पहली बार देखने वाले इससे इतने प्रभावित हुए कि इसे कपतान का दर्जा दिया। योसेमिती वादी घूमते हुए जब भी अल कपतान पर नजर जाती है तो भगवान में विश्वास बढ़ जाता है। सोचिए इतना सारा ग्रेनाईट शायद अगर इसकी स्लैब्स काटी जाएं तो पूरे अम्बाला में ग्रेनाइट की सड़के बनवा दें।

कल कल बहते झरने सभी को योसेमिती की ओर खींचते हैं। झरनों की आवाज में कुछ जादूई आकर्षण है आप सम्मोहित से इनके किनारे घंटो बिता सकते है। योसेमिती में झरने हैं भी बहुत से। वैसे भी चोटियों पर बर्फ पिंघली पानी ने नया रुख इख्तयार किया तो नया झरना बन गया। पर कुछ बड़े बड़े झरने अति प्रसिद्ध हैं। सबसे ऊँचा झरना है योसेमिटी जो कि दो भागों में बंटा है। यह अमेरिका का सबसे ऊँचा झरना भी है। पहुँचने में सबसे आसान झरना है ब्राइडलवेल यानि दुल्हन का घूँघट। फिर दो जुड़वां भाईयों की तरह झरने हैं वरनाल व नेवाडा फॉल्स।

ब्राइडलवेल फॉल्स

योसिमिती में जाकर रात में रहने के कई साधन हैं पर सबसे मजेदार है तम्बू लगा कर रहना। छोटी गैस पर जंगल में खाना बनाना, लकड़ियाँ इक्कठी कर आग का अलाव लगा कर घंटो बाते करने शहर की जिंदगी से एक अच्छी छुट्टी है। यदि आप दुनिया के इस कोने में आए तो प्रकृति के इस उपहार का आंनद लेना न भूलें। अधिक जानकारी योसिमिती के सजाल से ली जा सकती है।